Education News Latest News

NIYOJIT SHIKSHAK : – बिहार सरकार किया ऐलान राज्य कर्मी बनेंगे नियोजित शिक्षक, नियम हुआ तैयार

NIYOJIT SHIKSHAK : – बिहार सरकार किया ऐलान राज्य कर्मी बनेंगे नियोजित शिक्षक, नियम हुआ तैयार

 

अब तो खुश हो जाइए क्योंकि बिहार में पढ़ा रहे लगभग 4 लाख नियोजित शिक्षकों के लिए खुश कर देने वाली खबर है। दरअसल शिक्षा विभाग सरकार से नियोजित शिक्षकों का राज्य कर्मी का दर्जा लेने के तैयारी में है।

बिहार के लगभग 4 लाख नियोजित शिक्षकों को राज्यकर्मी का दर्जा मिलने वाला है। इसके लिए नियमावली शिक्षा विभाग ने बना ली है। जिस पर बिहार सरकार का मुहर लगने का इन्तजार है। जल्द ही मुहर लगने के उम्मीद हैं। मंजूरी मिलने के बाद नियोजित शिक्षकों द्वारा सक्षमता परीक्षा पास होने पर राज्य कर्मी का दर्जा दे दिया जाएगा। उपरांत लोक आयोग द्वारा शिक्षकों के समान वेतनमान और अन्य सुविधाएं मिलेगा।

दोस्तों आपको याद बता दूं कि शिक्षा विभाग द्वारा विद्यालय विशिष्ट नियमावली, 2023 का प्रारूप 11 अक्तूबर को जारी किया था। जिसपर सुझाव और आपत्ति मांगी गई थीं। लगभग 1 लाख से भी ज्यादा सुझाव प्राप्त हुए। इन्ही सभी विचारों पर गहन समीक्षा के बाद नियमावली को तैयार किया गया है। सूत्रों के मुताबिक, जिन लोगों द्धारा शिक्षको को सक्षमता परीक्षा नहीं लिए जाने पर सुझाव और विचार दिए गए थे। उनके सुझाव शिक्षा विभाग द्धारा नहीं माने गए हैं। सरकार नियोजित शिक्षकों की सक्षमता परीक्षा लेगी ही लेगी। इस परीक्षा में सफल होने के लिए नियोजित शिक्षकों को ज्यादा से ज्यादा 3 मौका ही दिया जाएगा। एक बार फिर से आपको बता दें कि सक्षमता परीक्षा पास नहीं होने पर सेवा समाप्त कर दी जाएगी।

राज्य कर्मी बनते ही मिलेगी जिले के अंदर और बाहर तबादला

अगर आप नियोजित शिक्षक से राज्यकर्मी हो जाएंगे तो आपका स्थानांतरणिय जिले के अंदर और बाहर हो पाएगा। एक शिक्षक द्धारा उनके सेवाकाल में वे केवल दो बार ही इस विकल्प का प्रयोग कर पाएंगे।

Now be happy because there is good news for about 4 lakh employed teachers teaching in Bihar. Actually, the Education Department is preparing to take the status of government employees to the teachers employed by the government.

About 4 lakh employed teachers of Bihar are going to get the status of state employees. The Education Department has made rules for this. On which the approval of Bihar government is awaited. It is expected to be approved soon. After getting the approval, the employed teachers will be given the status of state employee if they pass the competency test. After this, the Lok Aayog will provide the same pay scale and other facilities as the teachers.

Friends, let me remind you that the draft of School Specific Rules, 2023 was released by the Education Department on October 11. On which suggestions and objections were sought. More than 1 lakh suggestions were received. The manual has been prepared after a thorough review of all these considerations. According to sources, the people who had given suggestions and ideas to the teachers for not taking the competency test. His suggestions have not been accepted by the Education Department. The government will definitely conduct competency tests for employed teachers. To be successful in this examination, employed teachers will be given maximum 3 chances only. Once again let us tell you that if the competency test is not passed, the service will be terminated.

As soon as you become a state employee, you will get transfer inside and outside the district.

If you become a government employee from an employed teacher, you will be able to be transferred inside and outside the district. A teacher will be able to exercise this option only twice during his/her service period.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *